Gajendra Sharma
Gajendra Sharma
Gajendra Sharma

Gajendra Sharma

फर्क थोडा सा है मेरे और तेरे इश्क मे यारे ! तू माशूक की खातिर रातभर जागता है... और मुझे मुल्क के हालात सोने नही देते।।