Pinterest • The world’s catalogue of ideas

Na pooch manzar-e-shaam-o-haqiqat pe kya guzri nigah jab bhee haqiqat se aashNa guzri Na jane kaisi haqiqat ka aayeeNa hoon maiN Nazar Nazar mere nazdeek se khafa guzri -Ameer Qazalbash

pin 5

अल्ताफ़ हुसैन हाली उर्दू के एक सम्मानीय शायर, और लेखक रहे.उनका जन्म हरियाणा के पानीपत ( ब्रिटिश इंडिया ) में हुआ था.अल्ताफ़ हुसैन ने ग़ालिब, सादी शिराज़ी और सय्यैद अहमद खान जैसे अज़ीम शायरों-लेखकों की जीवनियाँ भी लिखी, 31 दिसम्बर 1914 को उर्दू शायरी-साहित्य के अहम शायर, विदुवान अल्ताफ़ हुसैन हाली इस दुनिया को छोड़कर चले गए.#hali #altafhussainhali #diwanekhas

pin 3

Ug raha hai daro-deewar se sabza ghalib hum bayabaN meiN haiN aur ghar meiN bahar aayee hai bayaban*-Jangle -Ghalib #ghalib #urdushayari #diwanekhasshayari

pin 3
heart 1

Fasanon meiN ulajh kar bhee haqiqat jaaN lete haiN muhabbat ke asar ko ek diN sab maaN lete haiN khuda kee zaat par poora bharosa kyuN naheeN karte hum aksar Na-khudaoN ko khuda kyuN maaN lete haiN -Aqeel Nomani #aqeelnomani #ghazal #hindighazal #diwanekhas

pin 2

Udhar zulfoN mein kanghee ho rahee hai qam nikalta hai idhar ruk ruk kar kheech kar hamara dam nikalta hai ilahee khair ho ulchan pe ulchaN badhti jati hai Na unka qam nikalta hai Na hamara dam Nikalta hai -Akbar Allahbadi #akbarallahbadi #urdu #ghazal #hindighazal

pin 2

आप सभी को दीवान-ए-ख़ास की तरफ़ से नया साल मुबारक हो #newyear #diwanekhas #happynewyear #urdughazal #urduadab #2017 #newyearshayari #newyearcelebration2017 #delhi

pin 2

Guzar gaye kaee Mausam kaee rute badlee udaas tum bhee ho yaroN udaas hum bhee haiN agar tumharee hee aan ka hai sawal to chalo maiN hath badhta hooN dostee ke liye -Ahmad Faraz #ahmadfaraz #diwanekhasshayari

pin 2
heart 1

Koee diwana kahta hai,koee pagal samjhta hai magar dharee ki baichaiNi ko bus badal samjhta hai yahaN sab log kahte haiN meree aankhon meiN aansu haiN jo tu samjhe to motee hai, jo Na samjhe to paNee hai -Kumar Vishwas

pin 2
heart 1

मुनीर नियाज़ी उर्दू, पंजाबी के शायर रहें, उनका जन्म खानपुर ( पंजाब ब्रितानी भारत ) में 9 अप्रैल 1928 को हुआ था. 1949 में उन्होंने Seven Colors नाम से साप्ताहिक पत्रिका भी निकाली , उनकी कई ग़ज़लों को फिल्मों में भी इस्तेमाल किया गया, जोकि अपने ज़माने के हिट गाने रहें.उन्होंने ‘सुसराल’ (1962) ‘तेरे शहर में’ (1965) ‘ख़रीदार’ (1976) जैसी फिल्मों के कई मशहूर गाने लिखें.26 दिसम्बर 2006 को मुनीर नियाज़ी का लम्बी बीमारी के बाद देहांत हो गया. #muneerniyazai #diwanekhas #urdu #shayari

pin 2

सयेद अली रज़ा ( मंज़र भोपाली ) उर्दू के प्रख्यात शायर हैं, 29 दिसम्बर 1959 को उनका जन्म मध्य प्रदेश के ''भोपाल'' में हुआ था, उन्होंने बरकतुल्लाह यूनिवर्सिटी से से एम्.ए किया है. वह ‘ डेढ़ इश्क़िया ’ फिल्म में अभिनय भी कर चुके हैं, मंजर को संयुक्त राज्य अमेरिका में ‘लुइसविल’ अवार्ड से सम्मानित भी किया जा चुका है. ग़ज़ल नज़्म के नाम पर उनके पास आधे से आधिक संग्रह है. #manzarbhopali #ghazal #diwanekhas

pin 2
heart 2