India News

1,293 Pins
 5w
Collection by
दिल्ली से चरखा फीचर्स की ग्रामीण लेखिका ज्योति का सोशल मीडिया पर सहज होती महिलाएं विषय पर लेख। यह लेख संजय घोष मीडिया अवार्ड्स 2023 के अंतर्गत लिखा गया है। पूजा, एक 31 वर्षीय महिला है. वह दिल्ली के उत्तम नगर इलाके में अपने पति और दो पुत्रों के साथ किराए के मकान में रहती है. उसकी इच्छा थी कि वह एक स्वतंत्र और आत्मनिर्भर महिला बने. उन्होंने 4 साल पहले सिलाई सीखी और अब वह इसे घर के कामों के साथ-साथ आत्मनिर्भरता की कमाई के लिए भी करती है. एक दिन उसने अपने फ़ोन पर YouTube में एक वीडियो देखा, जिसमे... Youtube, Social Media, News 2, Media, Women
सोशल मीडिया पर सहज होती महिलाएं
दिल्ली से चरखा फीचर्स की ग्रामीण लेखिका ज्योति का सोशल मीडिया पर सहज होती महिलाएं विषय पर लेख। यह लेख संजय घोष मीडिया अवार्ड्स 2023 के अंतर्गत लिखा गया है। पूजा, एक 31 वर्षीय महिला है. वह दिल्ली के उत्तम नगर इलाके में अपने पति और दो पुत्रों के साथ किराए के मकान में रहती है. उसकी इच्छा थी कि वह एक स्वतंत्र और आत्मनिर्भर महिला बने. उन्होंने 4 साल पहले सिलाई सीखी और अब वह इसे घर के कामों के साथ-साथ आत्मनिर्भरता की कमाई के लिए भी करती है. एक दिन उसने अपने फ़ोन पर YouTube में एक वीडियो देखा, जिसमे...
Bharat Ratna to Karpuri Thakur: Political use of symbols कर्पूरी ठाकुर (24 जनवरी 1924–17 फरवरी 1988) के जन्मशती वर्ष (Birth centenary of Karpoori Thakur) के अवसर पर जनवरी 2023 से लेकर अभी तक अलग-अलग जगहों पर काफी कार्यक्रम होते रहे। लेकिन मुख्यधारा मीडिया में उन कार्यक्रमों का कवरेज नहीं के बराबर था। केवल सोशल मीडिया पर उन कार्यक्रमों की जानकारी उपलब्ध होती थी। कर्पूरी ठाकुर की शख्सियत, राजनीति और विचारधारा का विवेचन करने वाले लेख और टिप्पणियां भी सोशल मीडिया और लघु पत्रिकाओं में ��ही प्र... India
कर्पूरी ठाकुर को भारत-रत्न: अनुप्रतीकों का राजनीतिक इस्तेमाल
Bharat Ratna to Karpuri Thakur: Political use of symbols कर्पूरी ठाकुर (24 जनवरी 1924–17 फरवरी 1988) के जन्मशती वर्ष (Birth centenary of Karpoori Thakur) के अवसर पर जनवरी 2023 से लेकर अभी तक अलग-अलग जगहों पर काफी कार्यक्रम होते रहे। लेकिन मुख्यधारा मीडिया में उन कार्यक्रमों का कवरेज नहीं के बराबर था। केवल सोशल मीडिया पर उन कार्यक्रमों की जानकारी उपलब्ध होती थी। कर्पूरी ठाकुर की शख्सियत, राजनीति और विचारधारा का विवेचन करने वाले लेख और टिप्पणियां भी सोशल मीडिया और लघु पत्रिकाओं में ही प्र...
Advani had challenged the politics of social justice, not the politics of dynasty.  दस साल में मोदी सरकार ने दिए 7 भारत रत्न सम्म�ान                  मोदी सरकार ने इस वर्ष सामाजिक न्याय के महान योद्धा कर्पूरी ठाकुर के बाद भाजपा के वयोवृद्ध नेता और रामरथ के सारथी लालकृष्ण अडवाणी को 96 वर्ष की उम्र में देश के सबसे बड़े नागरिक सम्मान ‘भारत रत्न’ देने की घोषणा कर देशवासियों को फिर चौंका दिया है। 2014 में सत्ता संभालने के बाद से प्रधानमंत... Challenges, Social Justice, The Politics
परिवारवाद नहीं, सामाजिक न्याय की राजनीति को चुनौती दी थी आडवाणी ने
Advani had challenged the politics of social justice, not the politics of dynasty. दस साल में मोदी सरकार ने दिए 7 भारत रत्न सम्मान मोदी सरकार ने इस वर्ष सामाजिक न्याय के महान योद्धा कर्पूरी ठाकुर के बाद भाजपा के वयोवृद्ध नेता और रामरथ के सारथी लालकृष्ण अडवाणी को 96 वर्ष की उम्र में देश के सबसे बड़े नागरिक सम्मान ‘भारत रत्न’ देने की घोषणा कर देशवासियों को फिर चौंका दिया है। 2014 में सत्ता संभालने के बाद से प्रधानमंत...
Ram Mandir: Result of 500 years or four decades of continuous struggle! अयोध्या में बहुप्रतीक्षित भव्य राम मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा हो चुकी है। दुनिया मंदिर की भव्यता और दिव्यता के साथ रामलला की सम्मोहनकारी प्रतिमा देख कर विस्मित है। प्राण प्रतिष्ठा के दूसरे दिन यानी 23 जनवरी से आमजन को रामलला के दर्शन मिलने शुरू हो चुके हैं। श्रीरामलला का दर्शन पाने के लिए देश भर में श्रद्धालुओं का तांता लगा हुआ है। एक अनुमान के मुताबिक जनवरी के अंत तक 22 लाख से ज्यादा श्रद्धालु रामलला के दर्शन कर चुके हैं। ... News, Diversity, Debate, Continuity
राम मंदिर : 500 वर्षों या चार दशकों के निरंतर संघर्ष का परिणाम !
Ram Mandir: Result of 500 years or four decades of continuous struggle! अयोध्या में बहुप्रतीक्षित भव्य राम मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा हो चुकी है। दुनिया मंदिर की भव्यता और दिव्यता के साथ रामलला की सम्मोहनकारी प्रतिमा देख कर विस्मित है। प्राण प्रतिष्ठा के दूसरे दिन यानी 23 जनवरी से आमजन को रामलला के दर्शन मिलने शुरू हो चुके हैं। श्रीरामलला का दर्शन पाने के लिए देश भर में श्रद्धालुओं का तांता लगा हुआ है। एक अनुमान के मुताबिक जनवरी के अंत तक 22 लाख से ज्यादा श्रद्धालु रामलला के दर्शन कर चुके हैं। ...
Jawahar Navodaya Vidyalaya: Golden contribution of Rajiv Gandhi in the field of education. कांग्रेस नेता राहुल गांधी बीती 14 जनवरी को शुरू हुई मणिपुर से शुरू हुई ‘भारत जोड़ों न्याय यात्रा’ पर हैं, जिस पर पूरे की निगाहें टिकी हुई हैं। इस यात्रा के दौरान उनकी पहली रैली 30 जनवरी को गांधी जी के बलिदान दिवस पर बिहार के पूर्णिया मे हुई, जानकारों के मुताबिक इस रैली में दो लाख से अधिक लोग उनको सुनने के लिए आए। लेकिन य�ह रैली लोगों की उमड़े जन सैलाब से अधिक अपने क्रांतिकारी संदेश के लिए सामाज... Education, Rajiv Gandhi, Gandhi, The Field
जवाहर नवोदय विद्यालय : शिक्षा के क्षेत्र राजीव गांधी का स्वर्णिम योगदान
Jawahar Navodaya Vidyalaya: Golden contribution of Rajiv Gandhi in the field of education. कांग्रेस नेता राहुल गांधी बीती 14 जनवरी को शुरू हुई मणिपुर से शुरू हुई ‘भारत जोड़ों न्याय यात्रा’ पर हैं, जिस पर पूरे की निगाहें टिकी हुई हैं। इस यात्रा के दौरान उनकी पहली रैली 30 जनवरी को गांधी जी के बलिदान दिवस पर बिहार के पूर्णिया मे हुई, जानकारों के मुताबिक इस रैली में दो लाख से अधिक लोग उनको सुनने के लिए आए। लेकिन यह रैली लोगों की उमड़े जन सैलाब से अधिक अपने क्रांतिकारी संदेश के लिए सामाज...
क्या अखिलेश कांग्रेस से मध्य प्रदेश में अपने अपमान का बदला ले रहे हैं? Has UP Congress crawled in front of Akhilesh? अमलेन्दु उपाध्याय समाजवादी पार्टी (सपा), कांग्रेस और राष्ट्रीय लोकदल (आरएलडी) के गठबंधन में सपा की अत्यधिक तेज़ी या तो उसके उत्साह को दिखाती है या उसके संशय को। दोनों ही स्थितियाँ स्वाभाविक तो कतई नहीं कही जा सकती हैं। मसलन, ये कैसे हो सकता है कि जब सपा और कांग्रेस के बीच सीटों पर बातचीत चल ही रही है तब अपनी तरफ से अखिलेश यादव ने लखनऊ सीट से अपना प्रत्याशी घोषित कर दिया।  ...
अखिलेश के सामने यूपी कांग्रेस रेंगने की मुद्रा में आ गयी है?
क्या अखिलेश कांग्रेस से मध्य प्रदेश में अपने अपमान का बदला ले रहे हैं? Has UP Congress crawled in front of Akhilesh? अमलेन्दु उपाध्याय समाजवादी पार्टी (सपा), कांग्रेस और राष्ट्रीय लोकदल (आरएलडी) के गठबंधन में सपा की अत्यधिक तेज़ी या तो उसके उत्साह को दिखाती है या उसके संशय को। दोनों ही स्थितियाँ स्वाभाविक तो कतई नहीं कही जा सकती हैं। मसलन, ये कैसे हो सकता है कि जब सपा और कांग्रेस के बीच सीटों पर बातचीत चल ही रही है तब अपनी तरफ से अखिलेश यादव ने लखनऊ सीट से अपना प्रत्याशी घोषित कर दिया। ...
लाला जी का राष्ट्रबोध  लाला लाजपत राय की जयंती पर विशेष भारतीय इतिहास के कालखण्डों में 28 जनवरी की तारीख की ऐतिहासिक महत्ता (Historical significance of the date 28th January in the periods of Indian history) बहुत ही प्रासंगिक है। आज की तारीख भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के दो महानायकों की स्मृतियों में याद की जाती है। आज के दिन हम भारतवासी इस तारीख को भारत के राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के शहीद दिवस (Martyr's Day of Father of the Nation Mahatma Gandhi) के रूप में मनाते हैं तो वहीं इसे पंजाब क... Mahatma Gandhi, History, Biography, Indian History, Martyrs' Day, Lala, Martyrs
लाला लाजपत राय का राष्ट्रबोध
लाला जी का राष्ट्रबोध लाला लाजपत राय की जयंती पर विशेष भारतीय इतिहास के कालखण्डों में 28 जनवरी की तारीख की ऐतिहासिक महत्ता (Historical significance of the date 28th January in the periods of Indian history) बहुत ही प्रासंगिक है। आज की तारीख भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के दो महानायकों की स्मृतियों में याद की जाती है। आज के दिन हम भारतवासी इस तारीख को भारत के राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के शहीद दिवस (Martyr's Day of Father of the Nation Mahatma Gandhi) के रूप में मनाते हैं तो वहीं इसे पंजाब क...
संसद में पहले चर्चा करवायें,  फिर कानून पारित हों बन्धु। कभी निष्कासित न हों सांसद,  संसद में हो परिचर्चा बन्धु।    प्रधानमंत्री उपस्थित रहे सत्रों में,  सदन और प्रेस को दे उत्तर बन्धु।  अपने कार्यालय में भी बैठ सुने,  रोज प्रदेश-देश की समस्या बन्धु।    कश्मीर में चुनाव कराओ,  ऐसी सरकार लाओ बन्धु, मणिपुर में शान्ति हो बहाल। आओ संविधान बचाओ बन्धु।    मंत्री से सूनी न हो दिल्ली,  सर्वधर्म समभाव हो बन्धु।  सत्ता का काम जन सेवा... Norway, Oslo, Constitution
करो संविधान की रक्षा बन्धु!
संसद में पहले चर्चा करवायें, फिर कानून पारित हों बन्धु। कभी निष्कासित न हों सांसद, संसद में हो परिचर्चा बन्धु। प्रधानमंत्री उपस्थित रहे सत्रों में, सदन और प्रेस को दे उत्तर बन्धु। अपने कार्यालय में भी बैठ सुने, रोज प्रदेश-देश की समस्या बन्धु। कश्मीर में चुनाव कराओ, ऐसी सरकार लाओ बन्धु, मणिपुर में शान्ति हो बहाल। आओ संविधान बचाओ बन्धु। मंत्री से सूनी न हो दिल्ली, सर्वधर्म समभाव हो बन्धु। सत्ता का काम जन सेवा...
Republic Day, Sovereignty and Youth प्रेम सिंह (गणतंत्र दिवस और संप्रभुता का नेरेटिव, जो 1991 में नई आर्थिक नीतियों के लागू होने और 1992 में बा�बरी मस्जिद के तोड़े जाने के साथ बदलना शुरू हुआ था, 75 वें गणतंत्र दिवस पर अपनी मंजिल पर पहुंच गया है। अब कारपोरेट-कम्यूनल गठजोड़ भारतीय गणतंत्र और संप्रभुता को परिभाषित करता है। इस पेराडाइम शिफ्ट का चारों गुणगान हो रहा है। यह पेराडाइम शिफ्ट की चारों तरफ प्रशंसा हो रही है। यह टिप्पणी 68वें गणतंत्र दिवस – 26 जनवरी 2017 – की है। युवाओं के विचार ... Republic Day, Youth
गणतंत्र दिवस, संप्रभुता और युवा
Republic Day, Sovereignty and Youth प्रेम सिंह (गणतंत्र दिवस और संप्रभुता का नेरेटिव, जो 1991 में नई आर्थिक नीतियों के लागू होने और 1992 में बाबरी मस्जिद के तोड़े जाने के साथ बदलना शुरू हुआ था, 75 वें गणतंत्र दिवस पर अपनी मंजिल पर पहुंच गया है। अब कारपोरेट-कम्यूनल गठजोड़ भारतीय गणतंत्र और संप्रभुता को परिभाषित करता है। इस पेराडाइम शिफ्ट का चारों गुणगान हो रहा है। यह पेराडाइम शिफ्ट की चारों तरफ प्रशंसा हो रही है। यह टिप्पणी 68वें गणतंत्र दिवस – 26 जनवरी 2017 – की है। युवाओं के विचार ...
Food allergy in childhood can cause asthma and lung failure: Research Researchers find world-first link between food allergies and asthma नई दिल्ली, 23 जनवरी 2024। एक हालिया शोध में बताया गया है कि बचपन में हुई फूड एलर्जी से अस्थमा और फेफड़ों की कार्यक्षमता कम (Food allergies reduce asthma and lung function) हो जाती है। मर्डोक चिल्ड्रेन्स रिसर्च इंस्टीट्यूट के नेतृत्व में किए गए शोध में पाया गया कि प्रारंभिक जीवन में फूड एलर्जी अस्थमा के बढ़ते जोखिम और छह साल की उम्र में फेफड़ों के विकास में... World, First World, Food Allergies, Asthma, Allergies
अगर हुई है बचपन में फूड एलर्जी तो हो सकता है अस्थमा और फेफड़ों की खराबी
Food allergy in childhood can cause asthma and lung failure: Research Researchers find world-first link between food allergies and asthma नई दिल्ली, 23 जनवरी 2024। एक हालिया शोध में बताया गया है कि बचपन में हुई फूड एलर्जी से अस्थमा और फेफड़ों की कार्यक्षमता कम (Food allergies reduce asthma and lung function) हो जाती है। मर्डोक चिल्ड्रेन्स रिसर्च इंस्टीट्यूट के नेतृत्व में किए गए शोध में पाया गया कि प्रारंभिक जीवन में फूड एलर्जी अस्थमा के बढ़ते जोखिम और छह साल की उम्र में फेफड़ों के विकास में...
कौन है पर्दे के पीछे का मोहरा? अमलेन्दु उपाध्याय राहुल गाँधी की मणिपुर से मुंबई तक की भारत जोड़ो न्याय यात्रा (Rahul Gandhi's Bharat Jodo Nyay Yatra from Manipur to Mumbai) कोई अराजनीतिक यात्रा नहीं है। कन्याकुमारी से कश्मीर तक की भारत जोड़ो यात्रा भी कोई गैर राजनीतिक यात्रा नहीं थी। इसीलिए कांग्रेस कर्नाटक और तेलंगाना की जीत का श्रेय राहुल गांधी और उनकी यात्रा को देती है।  लोकसभा चुनाव से लगभग तीन महीने पहले राहुल गांधी की भारत जोड़ो न्याय यात्रा का उद्देश्य कांग्रेस के खोए जनाधार को ज... Rahul, Business, Manipur, Belittle
क्या यूपी में अखिलेश के सामने राहुल को छोटा दिखाने में लगी है यूपी कांग्रेस ?
कौन है पर्दे के पीछे का मोहरा? अमलेन्दु उपाध्याय राहुल गाँधी की मणिपुर से मुंबई तक की भारत जोड़ो न्याय यात्रा (Rahul Gandhi's Bharat Jodo Nyay Yatra from Manipur to Mumbai) कोई अराजनीतिक यात्रा नहीं है। कन्याकुमारी से कश्मीर तक की भारत जोड़ो यात्रा भी कोई गैर राजनीतिक यात्रा नहीं थी। इसीलिए कांग्रेस कर्नाटक और तेलंगाना की जीत का श्रेय राहुल गांधी और उनकी यात्रा को देती है। लोकसभा चुनाव से लगभग तीन महीने पहले राहुल गांधी की भारत जोड़ो न्याय यात्रा का उद्देश्य कांग्रेस के खोए जनाधार को ज...
Satyapal Malik attacked Modi government, said - now there is no use in shedding false tears नई दिल्ली, 21 जनवरी 2024. वरिष्ठ भाजपा नेता और जम्मू-कश्मीर के पूर्व राज्यपाल सत्यपाल मलिक (Senior BJP leader and former Jammu and Kashmir Governor Satyapal Malik) ने पीएम मोदी पर करारा प्रहार करते हुए कहा है कि अब झूठे आंसू बहाने का कोई फायदा नहीं है। सत्यपाल मलिक ने सोशल मीडिया साइट एक्स पर लिखा कि अब झूठे आंसू बहाने का कोई फायदा नहीं है, जनता जागरूक हो चुकी है। झूठ की बुनियाद पर खड़ी तानाशाही मोदी ... Sayings, Government
सत्यपाल मलिक का मोदी सरकार पर प्रहार, कहा-अब झूठे आंसू बहाने का कोई फायदा नहीं
Satyapal Malik attacked Modi government, said - now there is no use in shedding false tears नई दिल्ली, 21 जनवरी 2024. वरिष्ठ भाजपा नेता और जम्मू-कश्मीर के पूर्व राज्यपाल सत्यपाल मलिक (Senior BJP leader and former Jammu and Kashmir Governor Satyapal Malik) ने पीएम मोदी पर करारा प्रहार करते हुए कहा है कि अब झूठे आंसू बहाने का कोई फायदा नहीं है। सत्यपाल मलिक ने सोशल मीडिया साइट एक्स पर लिखा कि अब झूठे आंसू बहाने का कोई फायदा नहीं है, जनता जागरूक हो चुकी है। झूठ की बुनियाद पर खड़ी तानाशाही मोदी ...
History proved Nehru right, future will prove Sonia and Kharge right शाहनवाज़ आलम 1951-52 में होने वाले पहले लोकसभा चुनाव के समय बंटवारे के कारण मुसलमानों के खिलाफ़ भावनाएं उफान पर थीं। तात्कालिक भावनाओं से प्रभावित एक तबका मानता था कि कांग्रेस ने सेक्युलर मुल्क बना कर ठीक नहीं किया। जब पाकिस्तान मुस्लिम राष्ट्र बन गया था तो भारत को भी हिन्दू राष्ट्र होना चाहिए था। ये भावनाएं बंटवारे में हिंसा झेलकर सरहद पार से पंजाब और दिल्ली में आ कर रह रहे शरणार्थियों में ज़्यादा थीं, जो तात्कालिक परिस्थि... Progress
इतिहास ने नेहरू को सही साबित किया, भविष्य सोनिया और खड़गे को सही साबित करेगा
History proved Nehru right, future will prove Sonia and Kharge right शाहनवाज़ आलम 1951-52 में होने वाले पहले लोकसभा चुनाव के समय बंटवारे के कारण मुसलमानों के खिलाफ़ भावनाएं उफान पर थीं। तात्कालिक भावनाओं से प्रभावित एक तबका मानता था कि कांग्रेस ने सेक्युलर मुल्क बना कर ठीक नहीं किया। जब पाकिस्तान मुस्लिम राष्ट्र बन गया था तो भारत को भी हिन्दू राष्ट्र होना चाहिए था। ये भावनाएं बंटवारे में हिंसा झेलकर सरहद पार से पंजाब और दिल्ली में आ कर रह रहे शरणार्थियों में ज़्यादा थीं, जो तात्कालिक परिस्थि...
Ram in Rahim's poetry, Justice Katju is telling जस्टिस मार्कंडेय काटजू अब्दुल रहीम खानखाना न केवल मुगल बादशाह अकबर की सेना के एक वीर सेनापति थे, बल्कि वे एक महान हिन्दी कवि भी थे। हालाँकि वह एक मुस्लिम थे, उनके कई दोहों में से कई भगवान राम की प्रशंसा में हैं। उनमें स��े कुछ यहां हैं: 1. गहि सरनागति राम की, भवसागर की नाव ‘रहिमन’ जगत-उधार को, और न कछू उपाय. (भवसागर के पार ले जाने वाली नाव कोई है तो वह राम की शरण में जाना ही है. संसार से उद्धार पाने का दूसरा कोई उपाय नहीं है।) 2. राम ... Poetry
रहीम के काव्य में राम, बता रहे हैं जस्टिस काटजू
Ram in Rahim's poetry, Justice Katju is telling जस्टिस मार्कंडेय काटजू अब्दुल रहीम खानखाना न केवल मुगल बादशाह अकबर की सेना के एक वीर सेनापति थे, बल्कि वे एक महान हिन्दी कवि भी थे। हालाँकि वह एक मुस्लिम थे, उनके कई दोहों में से कई भगवान राम की प्रशंसा में हैं। उनमें से कुछ यहां हैं: 1. गहि सरनागति राम की, भवसागर की नाव ‘रहिमन’ जगत-उधार को, और न कछू उपाय. (भवसागर के पार ले जाने वाली नाव कोई है तो वह राम की शरण में जाना ही है. संसार से उद्धार पाने का दूसरा कोई उपाय नहीं है।) 2. राम ...
A scene from Ramayana in Urdu by poet Chakbast चकबस्त की रामायण जस्टिस मार्कंडेय काटजू (पहला हिस्सा: बनबास जाने से पेश्तर रामचंद्र जी की माँ से बातचीत ) रूख़सत हुआ वो बाप से लेकर ख़ुदा का नाम राहे-वफ़ा की मंज़िले-अव्वल हुई तमाम मंज़ू़र था जो माँ की ज़ियारत का इंतिज़ाम दामन से अश्क पोछ कर दिल से किया कलाम इज़हारे-बेकसी से सितम होगा और भी  देखा हमें उदास तो ग़म होगा और भी दिल को सँभालता हुआ आख़िर वो नौनिहाल    ख़ामोश माँ के पास गया सूरते-ख़याल देखा तो एक दर में है बैठी वो ख़स्ता... Scene, Poet, Urdu
कवि चकबस्त द्वारा उर्दू में रामायण का एक दृश्य
A scene from Ramayana in Urdu by poet Chakbast चकबस्त की रामायण जस्टिस मार्कंडेय काटजू (पहला हिस्सा: बनबास जाने से पेश्तर रामचंद्र जी की माँ से बातचीत ) रूख़सत हुआ वो बाप से लेकर ख़ुदा का नाम राहे-वफ़ा की मंज़िले-अव्वल हुई तमाम मंज़ू़र था जो माँ की ज़ियारत का इंतिज़ाम दामन से अश्क पोछ कर दिल से किया कलाम इज़हारे-बेकसी से सितम होगा और भी देखा हमें उदास तो ग़म होगा और भी दिल को सँभालता हुआ आख़िर वो नौनिहाल ख़ामोश माँ के पास गया सूरते-ख़याल देखा तो एक दर में है बैठी वो ख़स्ता...