Explore these ideas and much more!

Explore related topics

आवासीय परिसर में बेमेतरा जिले के पंचायत प्रतिनिधियों ने पंजीयन कराया. हमर छत्तीसगढ़ योजना के तहत अध्ययन-भ्रमण यात्रा पर आने वाले प्रतिनिधियों का पंजीयन जरूरी है, जिससे उनकी पहचान हो सके. फोटोयुक्त पहचान पत्र मिला, तो भ्रमण पर जाने का रास्ता भी खुल गया.

आवासीय परिसर में बेमेतरा जिले के पंचायत प्रतिनिधियों ने पंजीयन कराया. हमर छत्तीसगढ़ योजना के तहत अध्ययन-भ्रमण यात्रा पर आने वाले प्रतिनिधियों का पंजीयन जरूरी है, जिससे उनकी पहचान हो सके. फोटोयुक्त पहचान पत्र मिला, तो भ्रमण पर जाने का रास्ता भी खुल गया.

आवासीय परिसर में बेमेतरा जिले के पंचायत प्रतिनिधियों ने पंजीयन कराया. हमर छत्तीसगढ़ योजना के तहत अध्ययन-भ्रमण यात्रा पर आने वाले प्रतिनिधियों का पंजीयन जरूरी है, जिससे उनकी पहचान हो सके. फोटोयुक्त पहचान पत्र मिला, तो भ्रमण पर जाने का रास्ता भी खुल गया.

आवासीय परिसर में बेमेतरा जिले के पंचायत प्रतिनिधियों ने पंजीयन कराया. हमर छत्तीसगढ़ योजना के तहत अध्ययन-भ्रमण यात्रा पर आने वाले प्रतिनिधियों का पंजीयन जरूरी है, जिससे उनकी पहचान हो सके. फोटोयुक्त पहचान पत्र मिला, तो भ्रमण पर जाने का रास्ता भी खुल गया.

आवासीय परिसर में बेमेतरा जिले के पंचायत प्रतिनिधियों ने पंजीयन कराया. हमर छत्तीसगढ़ योजना के तहत अध्ययन-भ्रमण यात्रा पर आने वाले प्रतिनिधियों का पंजीयन जरूरी है, जिससे उनकी पहचान हो सके. फोटोयुक्त पहचान पत्र मिला, तो भ्रमण पर जाने का रास्ता भी खुल गया.

आवासीय परिसर में बेमेतरा जिले के पंचायत प्रतिनिधियों ने पंजीयन कराया. हमर छत्तीसगढ़ योजना के तहत अध्ययन-भ्रमण यात्रा पर आने वाले प्रतिनिधियों का पंजीयन जरूरी है, जिससे उनकी पहचान हो सके. फोटोयुक्त पहचान पत्र मिला, तो भ्रमण पर जाने का रास्ता भी खुल गया.

बेमेतरा जिले के पंचायत प्रतिनिधियों ने इंदिरा गाँधी कृषि विश्वविद्यालय परिसर में स्थित कृषि संग्रहालय का अवलोकन किया। जहाँ उन्होंने सूपा, मटकियाँ, तुमड़ी, जांत, ओखली पारंपरिक कृषि औजार, दैनिक उपयोग के सामान देखे। गौ-पालकों के लिए पोस्टरों के माध्यम से विविध गायों की नस्लों का उल्लेख किया गया है, जिससे उन्हें मवेशी पालन की उचित जानकारी मिल सके.

बेमेतरा जिले के पंचायत प्रतिनिधियों ने इंदिरा गाँधी कृषि विश्वविद्यालय परिसर में स्थित कृषि संग्रहालय का अवलोकन किया। जहाँ उन्होंने सूपा, मटकियाँ, तुमड़ी, जांत, ओखली पारंपरिक कृषि औजार, दैनिक उपयोग के सामान देखे। गौ-पालकों के लिए पोस्टरों के माध्यम से विविध गायों की नस्लों का उल्लेख किया गया है, जिससे उन्हें मवेशी पालन की उचित जानकारी मिल सके.

जांजगीर-चांपा जिले के पंचायत प्रतिनिधि हमर छत्तीसगढ़ योजना में अध्ययन-भ्रमण के लिए नया रायपुर पहुंचे, जहाँ अधिकारियों ने उनका स्वागत किया। प्रतिनिधियों को सफर की थकान दूर करने के लिए चाय पिलाई गई. राज्य होटल प्रबंधन संस्थान एवं आवासीय परिसर उपरवारा में भ्रमण पर जाने के पूर्व प्रतिनिधियों का पंजीयन जरूरी है। प्रक्रिया के तहत् पंच-सरपंचों ने अपना-अपना पंजीयन कराया। आईएचएम के कर्मियों ने उन्हें तुरंत ही फोटोयुक्त पहचान पत्र बनाकर दिया।

जांजगीर-चांपा जिले के पंचायत प्रतिनिधि हमर छत्तीसगढ़ योजना में अध्ययन-भ्रमण के लिए नया रायपुर पहुंचे, जहाँ अधिकारियों ने उनका स्वागत किया। प्रतिनिधियों को सफर की थकान दूर करने के लिए चाय पिलाई गई. राज्य होटल प्रबंधन संस्थान एवं आवासीय परिसर उपरवारा में भ्रमण पर जाने के पूर्व प्रतिनिधियों का पंजीयन जरूरी है। प्रक्रिया के तहत् पंच-सरपंचों ने अपना-अपना पंजीयन कराया। आईएचएम के कर्मियों ने उन्हें तुरंत ही फोटोयुक्त पहचान पत्र बनाकर दिया।

बिलासपुर जिले के पंचायत प्रतिनिधियों ने इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय में स्थापित संग्रहालय का अवलोकन किया. जहां घरेलू उपयोग की पारंपरिक वस्तुओं, औजारों और कृषि कार्य में काम आने वाले सामानों की प्रदर्शनी देखी। प्राचीन काल में इन वस्तुओं का उपयोग किया जाता रहा है। सूपा, जांत, ओखली, तुमड़ी, मिट्टी की मटकियां आदि देखकर उन्हें अपने बचपन की याद आ गई। धान की विविध प्रजातियां, पशुपालन की जानकारी भी प्रदर्शित की गई है, जिससे किसानों एवं पशुपालकों को खेती-किसानी में मदद मिलती है. पॉली हाउस में उच्च…

बिलासपुर जिले के पंचायत प्रतिनिधियों ने इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय में स्थापित संग्रहालय का अवलोकन किया. जहां घरेलू उपयोग की पारंपरिक वस्तुओं, औजारों और कृषि कार्य में काम आने वाले सामानों की प्रदर्शनी देखी। प्राचीन काल में इन वस्तुओं का उपयोग किया जाता रहा है। सूपा, जांत, ओखली, तुमड़ी, मिट्टी की मटकियां आदि देखकर उन्हें अपने बचपन की याद आ गई। धान की विविध प्रजातियां, पशुपालन की जानकारी भी प्रदर्शित की गई है, जिससे किसानों एवं पशुपालकों को खेती-किसानी में मदद मिलती है. पॉली हाउस में उच्च…

दुर्ग जिले के पंचायत प्रतिनिधियों ने इंदिरा गाँधी कृषि विश्वविद्यालय परिसर में स्थित ग्रीन हाउस देखा, जहाँ उच्च वर्ग मूल्य की संरक्षित फसलें यथा टमाटर, गेंदा, जरबेरा फूल, पपीता, तरबूज आदि को विशेष तकनीक से उपजाया गया है. कृषि संग्रहालय में स्थापित प्रदर्शनी का अवलोकन किया। पारंपरिक कृषि औजार, दैनिक उपयोग के सामान देखे। गौ-पालकों के लिए पोस्टरों के माध्यम से विविध गायों की नस्लों का उल्लेख किया गया है, जिससे उन्हें मवेशी पालन की उचित जानकारी मिल सके.

दुर्ग जिले के पंचायत प्रतिनिधियों ने इंदिरा गाँधी कृषि विश्वविद्यालय परिसर में स्थित ग्रीन हाउस देखा, जहाँ उच्च वर्ग मूल्य की संरक्षित फसलें यथा टमाटर, गेंदा, जरबेरा फूल, पपीता, तरबूज आदि को विशेष तकनीक से उपजाया गया है. कृषि संग्रहालय में स्थापित प्रदर्शनी का अवलोकन किया। पारंपरिक कृषि औजार, दैनिक उपयोग के सामान देखे। गौ-पालकों के लिए पोस्टरों के माध्यम से विविध गायों की नस्लों का उल्लेख किया गया है, जिससे उन्हें मवेशी पालन की उचित जानकारी मिल सके.

बेमेतरा जिले के पंचायत प्रतिनिधि नया रायपुर स्थित मंत्रालय पहुंचे, जहां बेमेतरा विधायक श्री अवधेश सिंह चंदेल के साथ भ्रमण कर व्यवस्थाएं देखी. समिति बैठक कक्ष में रजिस्ट्रार श्री भगवान सिंह कुशवाहा ने उन्हें संरचना एवं व्यवस्था की जानकारी दी। अनुसूचित जाति-जनजाति विकास विभाग का अवलोकन किया एवं प्रशासनिक तथा सचिव ब्लॉक देखा। रैम्प एवं लिफ्ट के जरिये पांचवी मजिल तक पहुंचे प्रतिनिधियों ने जिम में आधुनिक उपकरणों पर व्यायाम किया और डम्बल्स उठाकर जोर-आजमाइश की। हरे-भरे उद्यान में बैठकर कुछ देर आराम…

बेमेतरा जिले के पंचायत प्रतिनिधि नया रायपुर स्थित मंत्रालय पहुंचे, जहां बेमेतरा विधायक श्री अवधेश सिंह चंदेल के साथ भ्रमण कर व्यवस्थाएं देखी. समिति बैठक कक्ष में रजिस्ट्रार श्री भगवान सिंह कुशवाहा ने उन्हें संरचना एवं व्यवस्था की जानकारी दी। अनुसूचित जाति-जनजाति विकास विभाग का अवलोकन किया एवं प्रशासनिक तथा सचिव ब्लॉक देखा। रैम्प एवं लिफ्ट के जरिये पांचवी मजिल तक पहुंचे प्रतिनिधियों ने जिम में आधुनिक उपकरणों पर व्यायाम किया और डम्बल्स उठाकर जोर-आजमाइश की। हरे-भरे उद्यान में बैठकर कुछ देर आराम…

बेमेतरा जिले के पंचायत प्रतिनिधि नया रायपुर स्थित मंत्रालय पहुंचे, जहां बेमेतरा विधायक श्री अवधेश सिंह चंदेल के साथ भ्रमण कर व्यवस्थाएं देखी. समिति बैठक कक्ष में रजिस्ट्रार श्री भगवान सिंह कुशवाहा ने उन्हें संरचना एवं व्यवस्था की जानकारी दी। अनुसूचित जाति-जनजाति विकास विभाग का अवलोकन किया एवं प्रशासनिक तथा सचिव ब्लॉक देखा। रैम्प एवं लिफ्ट के जरिये पांचवी मजिल तक पहुंचे प्रतिनिधियों ने जिम में आधुनिक उपकरणों पर व्यायाम किया और डम्बल्स उठाकर जोर-आजमाइश की। हरे-भरे उद्यान में बैठकर कुछ देर आराम…

बेमेतरा जिले के पंचायत प्रतिनिधि नया रायपुर स्थित मंत्रालय पहुंचे, जहां बेमेतरा विधायक श्री अवधेश सिंह चंदेल के साथ भ्रमण कर व्यवस्थाएं देखी. समिति बैठक कक्ष में रजिस्ट्रार श्री भगवान सिंह कुशवाहा ने उन्हें संरचना एवं व्यवस्था की जानकारी दी। अनुसूचित जाति-जनजाति विकास विभाग का अवलोकन किया एवं प्रशासनिक तथा सचिव ब्लॉक देखा। रैम्प एवं लिफ्ट के जरिये पांचवी मजिल तक पहुंचे प्रतिनिधियों ने जिम में आधुनिक उपकरणों पर व्यायाम किया और डम्बल्स उठाकर जोर-आजमाइश की। हरे-भरे उद्यान में बैठकर कुछ देर आराम…

छत्तीसगढ़ी लोकगीत-संगीत कार्यक्रम का बालोद, दुर्ग एवं बेमेतरा जिले के पंचायत प्रतिनिधियों ने लुत्फ़ उठाया. ग्राम जिवरी की संस्था धरती के सिंगार के कलाकारों ने सुमधुर गीतों पर आकर्षक नृत्य पेश किया. इस दौरान बेमेतरा विधायक श्री अवधेश सिंह चंदेल ने लोकमंच से प्रतिनिधियों को संबोधित किया. स्वच्छ भारत मिशन से संबंधित स्पर्धा भी आयोजित की गई, जिसमें ओडीएफ से संबंधित सवाल पूछे गए. सही जवाब देने वाले प्रतिनिधियों को पुरस्कार देकर सम्मानित किया गया.

छत्तीसगढ़ी लोकगीत-संगीत कार्यक्रम का बालोद, दुर्ग एवं बेमेतरा जिले के पंचायत प्रतिनिधियों ने लुत्फ़ उठाया. ग्राम जिवरी की संस्था धरती के सिंगार के कलाकारों ने सुमधुर गीतों पर आकर्षक नृत्य पेश किया. इस दौरान बेमेतरा विधायक श्री अवधेश सिंह चंदेल ने लोकमंच से प्रतिनिधियों को संबोधित किया. स्वच्छ भारत मिशन से संबंधित स्पर्धा भी आयोजित की गई, जिसमें ओडीएफ से संबंधित सवाल पूछे गए. सही जवाब देने वाले प्रतिनिधियों को पुरस्कार देकर सम्मानित किया गया.

Pinterest
Search