When autocomplete results are available use up and down arrows to review and enter to select. Touch device users, explore by touch or with swipe gestures.
तैलंग स्वामी जी काशी आ कर पंचगंगाघाट पर स्थायी रूप से रहते थे, जहां आज भी तैलंग स्वामी का मठ है। संवत् 1944 (सन 1887) की पौष सुदी 11 के दिन संध्या के समय इन्होंने योगासन पर बैठ कर चित्त को एकाग्र करके देह त्याग किया, ऐसा कहा जाता है कि उस समय उनकी आयु 280 वर्ष की थी। #TailangSwami #TailangSwamiAshram #Trailanga #Yogi #Mystic #hinduismbeliefs #hinduism #inhindi #hindi #hindudharma #Hinduism #spiritual #Yogi #Hindu #Krishna #yoga #DailyFacts #HindiFacts #Kashi #Blessings #BhaktiSarovar Indian Culture And Tradition, Hindu Festivals, Homemade Skin Care, Gods Love, Reiki, Aura, Facts, Tips, Love Of God
Save
Uploaded to Pinterest

Indian Culture And Tradition

तैलंग स्वामी जी काशी आ कर पंचगंगाघाट पर स्थायी रूप से रहते थे, जहां आज भी तैलंग स्वामी का मठ है। संवत् 1944 (सन 1887) की पौष सुदी 11 के दिन संध्या के समय इन्होंने योगासन पर बैठ… 
More

bhaktisarovar
Bhakti Sarovar
52k followers

More like this